50 वर्षों बाद रेलवे को नाले की आयी याद, कब्जा करने वाले व्यापारियों की उड़ी नींद

बस्ती। रेलवे प्रशासन को 50 वर्षों बाद अचानक रेलवे नाले की याद आने से गोविंदनगर के स्थानीय निवासियों और व्यापारियों की नींद उड़ गई है। रेलवे ने गोविंदनगर के दुकानों और घरों पर नोटिस चस्पा की है, जिसमें गोविंदनगर के पूरब समपार संख्या 202 अ / अ के उत्तर रोड के पूरब एवं पश्चिम तरफ रेलवे के नाले का होना बताया गया है। रेलवे के मुताबिक, लोगों ने अतिक्रमण करके नाले पर कब्जा कर लिया है, जिसे हटाने के लिए रेलवे प्रशासन ने महज 15 दिन का समय दिया है। ऐसा न करने पर स्थानीय प्रशासन के सहयोग से अतिक्रमण हटाने की चेतावनी भी दी गई है।

व्यापारियों का विरोध

इस नोटिस के विरोध में गोविंदनगर के सभी दुकानदारों ने दुकानें बंद कर शांतिपूर्वक अपनी बात प्रशासन तक पहुंचाई। गोविंदनगर के प्रधान प्रतिनिधि अमरनाथ चौधरी ने बताया कि यहां की आबादी पिछले 50 सालों से अधिक समय से रह रही है और अपना जीवन यापन कर रही है। यह चौराहा एक छोटे बाजार के रूप में आसपास के कई गांवों को रोजमर्रा का सामान उपलब्ध कराता है। इतने वर्षों से यहां के व्यापारी अपना व्यवसाय कर रहे हैं और अब अचानक रेलवे को न जाने कहां से नाले की याद आ गई और 15 दिन में खाली करने का आदेश जारी कर दिया गया।

व्यापारियों की समस्या

मिठाई की दुकान चला रहे राजेश मोदनवाल ने बताया कि उनके पिता जी पिछले सात दशकों से यह दुकान चला रहे थे और उनके बाद अब वे और उनके भाई इसे संभाल रहे हैं। उन्होंने कहा कि कभी भी रेलवे या जिला प्रशासन की ओर से ऐसी कोई बात नहीं बताई गई थी। अब अचानक ऐसे फैसले से उनके और अन्य व्यापारियों के सामने बहुत बड़ी समस्या खड़ी हो गई है।

ज्ञापन और भविष्य की योजनाएं

व्यापारियों ने नोटिस निरस्त कराने हेतु जिलाधिकारी को ज्ञापन सौंपा है। अगर उनकी मांगें नहीं मानी गईं तो वे संवैधानिक रूप से विरोध प्रदर्शन करने के लिए बाध्य होंगे।

उपस्थित व्यापारी

इस अवसर पर प्रमोद मोदनवाल, विनोद मोदनवाल, महंत मौर्य, श्याम सुंदर साहनी, टाइगर गुप्ता, गुड्डू मोदनवाल, संतोष अग्रहरि, राहुल पटवा, काजू सोनी, रवि अग्रहरि, सुमित सोनी, सरदार कुलदीप सिंह, पिंकी भाटिया आदि व्यापारी उपस्थित रहे।

निष्कर्ष

गोविंदनगर के निवासियों और व्यापारियों की इस समस्या को हल करना आवश्यक है ताकि उनका भविष्य सुरक्षित रह सके। प्रशासन को भी इस मामले में संवेदनशीलता दिखाते हुए उचित कदम उठाने चाहिए।

Related Articles

- Advertisement -

Latest Articles