राष्ट्रीय युवा दिवस के अवसर पर स्वामी विवेकानंद की प्रासंगिकता का बस्ती में किया विमोचन

राष्ट्रीय युवा दिवस के अवसर पर विवेकानंद केंद्र उत्तर प्रांत के प्रमुख निखिल यादव ने अपनी पुस्तक अमृतकाल में स्वामी विवेकानंद की प्रासंगिकता का विमोचन बस्ती में किया । यह पुस्तक हमें राष्ट्र जागरण तथा अमृत कल के पहलुओं को समझने तथा स्वामी जी के संदेश को प्रेषित करती है।

निखिल यादव की नई किताब “अमृतकाल में स्वामी विवेकानंद की प्रासंगिकता” ने स्वामी विवेकानंद के जीवन के रोचक पहलुओं को उजागर किया है और युवाओं को उनके संदेशों से प्रेरित किया है. यह किताब आधुनिक भारत में मार्गदर्शन करने का कार्य करेगी, साथ ही युवाओं के जीवन में स्वामी विवेकानंद की प्रासंगिकता को भी बढ़ावा देगी।

युवाओं के जीवन में स्वामी विवेकानंद की प्रासंगिकता को भी देगी बढ़ावा –

जेएनयू के शोधार्थी निखिल यादव इस पुस्तक को विशिष्ट बनाने के रूप में यह बताते हैं कि इसने महत्वपूर्णता की नई दृष्टि में प्रवेश किया है। इसने न केवल अमृतकाल की अनगिनत चुनौतियों का समाधान निकाला है, बल्कि इसने यह भी प्रयास किया है कि इन चुनौतियों को स्वामी विवेकानंद की दृष्टि से देखें—एक दृष्टिकोण जो भारत की नई पीढ़ी के लिए बहुत लाभदायक है।

इस पुस्तक में, स्वामी जी के जीवन से जुड़े अनेक रोचक प्रसंग और अंदरूनी दृष्टिकोण हैं, जो हमें उनके साथ और करीब ले जाते हैं और उनसे जुड़ी कई भ्रांतियों को दूर करती हैं। स्वामीजी के जीवन के दौरान और उसके बाद कई महान व्यक्तियों पर उनका प्रभाव जीवंतता से दिखाया गया है, जैसे कि बाल गंगाधर तिलक, भगिनी निवेदिता, महात्मा गांधी, नेताजी सुभाष चंद्र बोस, और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी। इसके अलावा, पुस्तक “योग” और “भारत की विविधता में एकता” विषयों पर भी स्वामी विवेकानंद के योगदान को शामिल करती है।

इसके अतिरिक्त, आखिरी अध्याय में कोशिश की गई है कि G20 देशों में स्वामी विवेकानंद के विचारिक परिप्रेक्ष्य को स्पर्श किया जाए। यह विशिष्ट अन्वेषण हमें स्वामी विवेकानंद के सिद्धांतों को समझाने के नहीं बल्कि उन्हें समकालीन वैश्विक दृष्टिकोणों से जोड़ने में सहारा प्रदान करता है।

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest Articles